न आने दें मुस्कान में दरार

0
365

सर्दियों के मौसम का आगाज हो चुका है. इसके साथ ही कुछ राहत व कुछ परेशानी भी साथ ला रहा है. सर्दियों के शुरुआत व अंत में हमें कुछ परेशानियों से गुजरना पड़ता है.न्ही में से एक है, होठों का फटना. हमारे शरीर के दूसरे हिस्सों की तुलना में होठ की त्वचा 10 गुना नाजुक व कोमल होती है. होठ हमारी खूबसूरती का अभिन्न हिस्सा है. लेकिन हमारी लापरवाही या मौसम की मार इन्हें भद्दा बना देती है. लेकिन कुछ कारण और भी होते है, जो होठ फटने की वजह बनते हैं .जरूरी है कि हम इनकी देखभाल करें लेकिन इलाज जानने से पहले हमें यह पता होना चाहिये की समस्या किस कारण हो रही है.

कारण

शरीर में पानी की कमी

सर्दियों के मौसम में हर कोई होठ फटने की समस्या से दो चार होता ही है . लेकिन शरीर में पानी की कमी हो तो हर मौसम में होंठ सूखे ही रहेंगे. क्योंकि शरीर में हुई पानी की कमी का असर होंठों पर भी पड़ता है और बाहर निकलने पर रूखापन और भी बढ़ जाता है. इसलिए शरीर में पानी की कमी नहीं होने दें. जरूरी है की दिन में कम से कम 8 गिलास पानी का सेवन करें.

बोतल से पानी का सेवन

अगर आप सीधे बोतल से मुंह लगाकर पानी पीते है तो भी आपके होंठ फटने की समस्या बनी रहती है क्योंकि इससे आपके होठों को नमी नहीं मिल पाती जिस कारण आपके होठ फटने लगते हैं जरूरी है की गिलास से पानी पियें .

मुंह से सांस लेना

जब कभी हमें जुखाम होता है तो हम नाक से सांस नहीं ले पाते जिस कारण हमें मुंह से सांस लेना पड़ता है और मुंह से सांस लेने से हवा हमारे होठों से गुजरती है. जिससे होठों की नमी खत्म हो जाती है और हमारे होंठ फटने लगते हैं लेकिन कुछ लोगों को यह आदत भी होती है की वो मुंह से सांस लेते हैं जिस कारण उनके होंठ हर मौसम में फटे ही रहते है. जो ना केवल होठों के लिए बल्कि स्वास्थ्य के लिए भी नुकसानदेह है. क्योंकि सांस लेने की क्रिया नाक से की जाती है न की मुंह से. जरूरी है कि समय पर अपनी आदत में बदलाव लाएं.

होठों पर जीभ घूमना

कुछ लोगों को आदत होती है अपने होठो नम रखने के लिए जीभ घूमाते रहते हैं इसके आलावा होठों को चबाना, होठों की मर्त त्वचा को दांत या हाथ से निकाल देना यह आपके होठों को बेहद नुकसान पहुंचाता है. आपके होंठ रूखे व बेजान हो जाते हैं. इस तरह की आदतों को छोड़ने से आप अपने होठों की समस्या से कुछ हद तक छुटकारा पा सकते हैं.

उपाय

शहद और वैसलीन

होठों पर शहद लगाए व उसके ऊपर से वैसलीन लगाकर 10 मिनट तक ऐसे ही रहने दें. फिर टिश्यू पेपर से साफ कर लें. ऐसा करने से एक हफ्ते में ही आपको आराम मिल जायेगा.

शहद में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं और घाव को भरने का काम करते हैं. वहीं, वैसलीन रूखी त्वचा या रूखे होंठों को नमी देकर उन्हें मुलायम बनाती है . इस नुस्खे से आपके होंठ मुलायम व स्वस्थ रहते हैं.

गुलाब की पंखुड़ियां

आधा कप दूध में 5 से 6 गुलाब की पंखड़ियों को मिलाकर 3 घंटे के लिए रख दें फिर उनको मिक्स करके अच्छे से पेस्ट बना लें . और 15 मिनट के लिये अपने होठों पर लगा लें फिर ठंडे पानी से धो दें.

दूध में गुलाब की पंखुड़ियों को डालकर दो से तीन घंटों के लिए छोड़ दें.फिर पंखुड़ियों को अच्छे तरह दूध में मिक्स करके पेस्ट बना लें.
अब इस पेस्ट को अपने होंठों पर लगाएं और 10 -15 मिनट तक लगा रहने दें.फिर ठंडे पानी से धो लें.

आप हर रोज इसे एक या दो बार लगाएं . यह हमें सूरज की किरणों से बचता है.क्योंकि गुलाब की पंखुड़ियों में मौजूद एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण त्वचा को धूप से होने वाले नुकसान से बचाव करने में मदद करता हैं . इतना ही नहीं, रोज एसेंशियल औयल भी त्वचा को स्वस्थ बनाने में फायदेमंद साबित होता है.

चीनी और जैतून

चीनी को जैतून के तेल और शहद के साथ मिलाएं, चीनी को घोलने न दें . और स्क्रब की तरह अपने होंठों पर लगाएं. स्क्रब करने के बाद गुनगुने पानी से इसे धो लें.ऐसा हफ्ते मई ३ बार करें.

चीनी एक बेहतरीन एक्सफोलिएट है जो आपके फटे होंठों को ठीक करने में मदद करेगी. इससे स्क्रब करने से होंठ एक्सफोलिएट होंगे और रूखी व परतदार त्वचा से छुटकारा मिलेगा.

शहद से त्वचा नर्म और मुलायम रहती है वहीं औलिव औयल में मौजूद एंटीइन्फ्लेमेटरी और एंटी-कैंसर गुण होता है जो की हमीं स्किन कैंसर से भी बचता है.