WHO का खुलासा, वीक में 55 घंटे से ज्यादा देर तक काम करने से जा सकती है जान, बढ़ रहा स्ट्रेस

0
294
Photo: fjwp.s3.amazonaws.com

कोरोना महामारी (Covid Pandemic) के कहर से दुनिया भर के लोग पिछले डेढ़ साल से ज्यादा वक्त से जूझ रहे हैं। कोविड पीरियड में जो लोग लंबे समय तक घर से काम कर रहे हैं अब उनमें भी तमाम तरह की बीमारियों का खतरा बढ़ रहा है। WHO के अनुसार, ज्यादा देर तक Work from home कर रहे लोगों को जान जाने का खतरा है।

कोरोना वायरस की दूसरी लहर के प्रकोप के चलते देशभर के तमाम हिस्सों में लॉकडाउन लगा हुआ है। ऐसे में तमाम कंपनियों में काम करने वाले लाखों कर्मचारी दफ्तर की बजाए अपने घर से ही काम कर रहे हैं। दफ्तर में जहां वे 6 से 8 घंटे की शिफ्ट करते थे लेकिन अब ये वक्त लगभग दोगुना हो चुका है। लंबे समय तक काम करना सेहत के लिए खतरनाक साबित हो रहा है। हाल ही में इसे लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) ने एक रिपोर्ट जारी की है। WHO के वैज्ञानिकों द्वारा किए शोध में पता चला है कि लाखों लोगों की मौत लंबे समय तक काम करने से हो रही है।

WHO ने सोमवार एक डेटा पेश करते हुए बताया कि वर्क आवर से ज्यादा देर तक काम करने से एक साल में हजारों लोगों की जान जा रही है और यह कोविड महामारी के दौरान और तेज हो गया है। WHO की रिपोर्ट में बताया गया है कि महामारी के दौरान वर्क फ्रॉम होम वाले कर्मचारियों का स्ट्रेस लगातार बढ़ता ही जा रहा है और वे अपनी जान जोखिम में डाल रहे हैं। अगर आप भी लंबे समय तक लैपटॉप के आगे अपनी नजरें लगाए रहते हैं तो ये खबर पढ़नी जरूरी है। आइए जानते हैं कैसे ज्यादा देर का काम करने जोखिम में आ रही लाखों लोगों की जान।