बेकाबू नहीं है कोरोना वायरस का नया स्‍ट्रेन: WHO

0
38
World Health Organization leaders at a press briefing on COVID-19, held on March 6 at WHO headquarters in Geneva. Here's a look at its history, its mission and its role in the current crisis.

नई दिल्‍ली: ब्रिटेन में कोरोना वायरस के नए स्‍ट्रेन के बाद जहां कई देशों ने ब्रिटेन के लिए अपनी हवाई और जमीनी सीमा को बंद करने का फैसला किया है वहीं विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन का कहना है कि ये स्‍ट्रेन बेकाबू नहीं है इसको रोका जा सकता है। डब्‍ल्‍यूएचओ की तरफ से इस बयान को खुद संगठन के महानिदेशक ने दिया है। उनका कहना है कि अब तक इस बात के भी कोई सुबूत नहीं मिले हैं कि कोविड-19 की वैक्‍सीन इसको खत्‍म करने में असफल साबित होगी। इसको लेकर विश्‍व के कई वैज्ञानिकों के बीच भी सहमति बनती दिखाई दे रही है कि इस नए स्‍ट्रेन पर वैक्‍सीन बेअसर साबित नहीं होगी।

आपको बता दें कि ब्रिटेन के अलावा वायरस का ये नया स्‍ट्रेन इटली, दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया, आइसलैंड, नीदरलैंड्स और डेनमार्क में भी मिला है। इसको देखते हुए ही यूरोपीय देशों ने एहतियातन सीमाओं को बंद करने का फैसला लिया है। ब्रिटेन से आने वाली खबरों में कहा गया है कि ये स्‍ट्रेन पहले से अधिक संक्रामक तो है लेकिन उतना घातक नहीं है। वहीं डब्‍ल्‍यूएचओ की तरफ से कहा गया हे कि इसको लेकर जांच की जा रही है। इसके बावजूद संगठन का मानना है कि इस स्‍ट्रेन को रोकपाना संभव है।