मसूद अज़हर पर रुख़ बदलने के बाद अब चीन को सता रहा है जैश-ए-मोहम्मद का डर

0
114

इकॉनोमिक टाइम्स में छपी रिपोर्ट के मुताबिक़ चीन को चरमपंथी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मसूद अज़हर पर अपना रुख़ बदलने के बाद एक चिंता सता रही है.

दरअसल पिछले महीने भारत प्रशासित कश्मीर में भारतीय सुरक्षाबलों पर हुए हमले के बाद संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने जैश-ए-मोहम्मद का ज़िक्र करते हुए इसकी निंदा की थी.

सुरक्षा परिषद के जैश-ए-मोहम्मद का सीधे तौर पर नाम लिए जाने के बाद चीन पर काफ़ी दबाव पड़ा था क्योंकि सुरक्षा परिषद का स्थायी सदस्य होने के बावजूद वो मसूद अज़हर को अंतरराष्ट्रीय चरमपंथी मानने को कभी तैयार नहीं था.

भारत ने मसूद को अंतरराष्ट्रीय चरमपंथी घोषित करवाने की कई कोशिशें कीं लेकिन चीन ने हर बार इसे वीटो कर दिया. लेकिन इस बार सुरक्षा परिषद ने जब सीधे तौर पर जैश का नाम लिया तो चीन भी इस पर आपत्ति नहीं जता पाया.

इन सारे घटनाक्रमों के बाद अब चीन को लग रहा है कि अब जैश चीन-पाकिस्तान इकॉनोमिक कॉरिडोर (CPEC) को निशाना बना सकता है जो पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर से गुज़रता है.